अगर आप एक एंड्रॉयड यूजर है तो आपने रूट के बारे में जरूर सुना होगा. पर क्या आप जानते हैं कि रूट क्या होता है? और किसी भी फोन को रूट कैसे करते हैं? और किसी भी फोन को रूट करने के फायदे एवं नुकसान क्या है? अगर नहीं, तो आज आप इस आर्टिकल में इन्हीं सब के बारे में जानेंगे

 

Root क्या होता है? / What is Root in Hindi

Rooting एक प्रक्रिया है, जिसमें हम कंपनी द्वारा तय किए गए लिमिट को हटाकर System का पूरा कंट्रोल पा लेते हैं. फिर चाहे आप कोई भी OS का इस्तेमाल करते हो, विंडोज में इसे एडमिनिस्ट्रेशन एक्सेस कहते हैं. और Linux में कमांड देकर रूट यूजर का एक्सेस पा सकते हैं. पर एंड्रॉयड और ios जैसे OS में रूट एक्सेस पाने के लिए आपको अपने फोन को रूट करना पड़ता है. और रूट करने के बाद आपको आपके मोबाइल का एडमिनिस्ट्रेशन एक्सेस मिल जाता है. एंड्रॉयड में कई सारे ऐसे भी एप्लीकेशन मौजूद है जो केवल आप अपने फोन को रूट करने के बाद इस्तेमाल कर सकते हैं. रूटिंग प्रक्रिया को जेलब्रेकिंग नाम से भी जाना जाता है.

 

Root कैसे करते हैं? / How to Root in Hindi

वैसे तो एक फोन को रूट करने के कई सारे तरीके हैं.पर आज हम आपको सबसे आसान तरीके से फोन को रूट करने के बारे में बताएंगे. अपने फोन को रूट करने के लिए आपको सबसे पहले अपने फोन में Kingroot नाम के एप्लीकेशन को डाउनलोड करना होगा. इस एप्लीकेशन की मदद से आप कई सारे फोन को रूट कर सकते हैं. पर फिलहाल अभी कई सारे फोन जो नए आ रहे हैं वह इस एप्लीकेशन से रूट नहीं होते. तो जो फोन इस एप्लीकेशन की मदद से रूट नहीं होते उन फोन को कैसे रूट करें इसके बारे में हम दूसरे आर्टिकल में बताएंगे, फिलहाल जानते हैं कि Kingroot से अपने फोन को कैसे रूट करें

 

1] सबसे पहले Kingroot एप्लीकेशन को डाउनलोड करें

2] Kingroot डाउनलोड करने के बाद इसे इंस्टॉल करें और ऐप को ओपन करें, ऐप में आपको कुछ ऐसा इंटरफेस देखने को मिलेगा [ अगर यह एप्लीकेशन इंस्टॉल नहीं हो रहा है तो अपने फोन के इंटरनेट को बंद करके इंस्टॉल करें ]

और अगर यह एप्लीकेशन इंस्टॉल करते वक्त आपको “Bloked by Play Protect” का मैसेज आ रहा है तो “Install anyway unsafe” पर क्लिक करें

what is rooting

3] इंस्टॉल होने के बाद सबसे पहले यह एप्लीकेशन यह चेक करेगा कि आपका डिवाइस रूट है या नहीं, और अगर आपका डिवाइस रूट नहीं होगा तो आपको कुछ ऐसा देखने को मिलेगा

what is root in hindi

4] इसके बाद अपने फोन को रूट करने के लिए ट्राई रूट पर क्लिक करें, ध्यान दे की इस प्रक्रिया में आपके फोन में इंटरनेट चालू होना चाहिए  

how to root in hindi

5] और यह प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद आपका फोन रूट हो जाएगा, और अगर आपका फोन रूट नहीं होता तो आपको कुछ ऐसा देखने को मिलेगा

root in hindi

 

6] और अगर आपका फोन इस ऐप्लिकेशन से रूट नहीं होता है तो आपको अपने फोन को रूट करने के लिए दूसरे तरीके का इस्तेमाल करना होगा.

Advantages of Rooting in Hindi

  • फोन को रूट करने के बाद आप अपने फोन में कस्टम रोम को इंस्टॉल कर सकते हैं.
  • आप फोन में पहले से मौजूद एप्लीकेशन को डिलीट कर सकते हैं.
  • अपने फोन को रूट करने के बाद आप अपने फोन से ऐड को ब्लॉक कर सकते हैं.
  • रूट करने के बाद आप अपने फोन में incompatible apps को इंस्टॉल कर सकते हैं.
  • फोन को रूट करने के बाद आप अपने फोन के interface को बदल सकते हैं.
  • रूट करने के बाद आप अपने फोन के लाइफटाइम को बढ़ा सकते हैं.
  • अपने फोन को रूट करने के बाद आप अपने फोन का फुल बैकअप ले सकते हैं.
  • अपने फोन को रूट करने के बाद आप अपने फोन के रूट फाइल को access कर सकते हैं.
  • फोन को रूट करने के बाद आप CPU Clocking भी कर सकते हैं.

तो एक फोन को रूट करने के यह सब फायदे हैं. फोन को रूट करने के बाद आप अपने फोन का और अच्छे तरीके से इस्तेमाल कर सकते हैं. पर अब चलिए जानते हैं कि फोन को रूट करने के नुकसान क्या है ?

Disadvantages of Rooting in Hindi

  • फोन को रूट करने के बाद आपके फोन की वारंटी खत्म हो जाती है.
  • फोन को रूट करते समय आपके फोन के खराब होने के चांसेस रहते हैं.
  • फोन रूट करने के बाद आपके फोन में वायरस आने की संभावना बढ़ जाती है
  • कभी-कभी रूट करने के बाद आपके फोन में ऐड के साथ दूसरी चीजें भी ब्लॉक हो जाती हैं.
  • फोन को रूट करने के बाद आपके फोन को अपडेट करने में प्रॉब्लम आ सकती है.

अब आप जान चुके हैं कि एक फोन को कैसे रूट करते हैं और उसे रूट करने के फायदे व नुकसान क्या है. पर मेरा सुझाव यही रहेगा कि जब आपको रूट की आवश्यकता हो तभी अपने फोन को रूट करें, और अगर आपको रूट की जानकारी नहीं है तो अपने फोन को रूट ना करें. 

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

As you found this post useful...

Follow us on social media!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *